Tuesday, 29 March 2011

Aum: The Symbol of Eternal Bliss! Two


आलेख का द्वितीय भाग,
  एक अनाहत नाद है I  एक ऐसी ध्वनि जो संघट्ट से उत्पन्न नहीं हुई बल्कि स्वयम्भू हैसदा से है I यह नाद सभी नादों  से परे होते हुए भी सब का सार है I योगी इस नाद कोअपने शरीर में सुनते हैं I

यह तथ्य जान कर शायद  आप आश्चर्य से भर जावें की  एक विज्ञान वेत्ता ने तोनोस्कोप  नामक एक यन्त्र के उपयोग से एक गूढ़ रहस्य पर प्रकाश डाला है ! तोनोस्कोप एक ऐसायन्त्र है जिसमे कोई भी नाद करने पर उस नाद से समबन्धित छवि प्रस्तुत हो जाती है I जब इन मनीषी ने  का गुंजन तोनोस्कोप पर कराया तो एक बहुत जानी पहचानीछवि उभर कर सामने आई I 

 का नाद करने पर तोनोस्कोप ने श्री यन्त्र की छवि बना दी I यह कितना अभिभूत कर देने वाला तथ्य है I महयोगियों ने द्रश्य रूप में  को जीवन में समाविष्ट करने हेतु श्री यन्त्रदिया था I कालांतर में यह मात्र चिन्ह पूजा बन कर रह गया I तथापि जो भी श्री यन्त्र पर ध्यान एक्कग्र करता है वह सम्रद्धि पाता हैइसमें किसी संशय की गुन्जायिश नहीं है I

अतः  का नाद अपने अंतर में सुनना अथवा श्री यन्त्र पर ध्यान एकाग्र करना , दोनों हीअति वैज्ञानिक तरीके हैं अपनी चेतना को उंचा उठाने और अपनी बुद्धि को कुशाग्रबनाने  हेतु I